~ परिंदे हैं, अपनी दिशा जानते हैं! (Part- 3)

मुश्किल जरूर है, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं,
मंजिल से जरा कह दो अभी पहुंचा नहीं हूँ मैं!
कदमों को बांध न पाऐंगी मुसीबत की जंजीरें,
रास्तों से जरा कह दो अभी भटका नहीं हूँ मैं!!

Advertisements

6 thoughts on “~ परिंदे हैं, अपनी दिशा जानते हैं! (Part- 3)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s